You are currently viewing भ्रष्टाचार पर निबन्ध –10 Lines Essay On Corruption In Hindi

भ्रष्टाचार पर निबन्ध –10 Lines Essay On Corruption In Hindi

हेलो दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम भ्रष्टाचार के बारे में बात करेंगे जिसमे हम corruption पर एक essay लिखेंगे और जानेंगे की भ्रष्टाचार एक ऐसा शब्द है जिसका बुरा असर पूरे समाज को झेलना पड़ता है जिसमे गलती किसी वर्ग या इंसान की होती है लेकिन इसका नुकसान जनता और पूरे देश को होता है |

भ्रष्टाचार की कोई सीमा नहीं होती है, अगर कोई भ्रष्टाचार में लिप्त होता है तो वो यह नहीं सोचता है की इसका पूरे समाज पर क्या असर पड़ेगा और ना ही वो इसके अंजाम को जतना है और जो इसमें लिप्त हो जाता है वो दुनिया की नजरो में हमेशा के लिए गिर जाता है |

What is corruption in hindi : भ्रष्टाचार क्या है?

जब कोई व्यक्ति अपनी पॉवर, अधिकार, आजादी का गलत फायदा उठाकर और समाज के विरुद्ध जाकर देश, समाज और जनता की पूँजी का दुरूपयोग करता है और उसे काबिज करता है तो वो व्यक्ति भ्रष्टाचारी कहलाता है |

आज के समय पूरे देश में भ्रष्टाचार इस कदर फ़ैल गया है की उसे जड़ से मिटाना मुश्किल हो गया है यह हर समाज के बीच में चला गया है और इसकी जड़े मजबूत होने की वजह से यह काफी तेजी से फ़ैल चूका है |

भ्रष्टाचार पूरे समाज में कैंसर की तरह है जो पूरे समाज को खोखला कर देता है आप सोच सकते है की यह देश और समाज के विकास को रोक देता है |

भ्रष्टाचार के कई रूप हो सकते हैं जैसे रिश्वत लेना, कालाबाजारी करना, किसी वस्तु के कीमतों में जानबूझकर बढ़ोतरी करना, घोटाला करना, जालसाजी करना, फ्रॉड जैसे तत्वों में लिप्त होना, धोखाधड़ी करना जैस कई काम भ्रष्टाचार के ही रूप है |

भ्रष्टाचार सभी क्षेत्र में हो सकता है चाहे शिक्षा, खेल, राजनीति, मेडिकल या फिर किसी आर्गेनाईजेशन स्तर पर हो, सभी जगह भ्रष्टाचार फैला हुआ है और पिछले कई सालो से भ्रष्टाचार हुए भी है |

10 Lines Essay On Corruption In Hindi : भ्रष्टाचार पर 10 लाइनों में निबन्ध

  1. भ्रष्टाचार में लिप्त इंसान अपनी जिम्मेदारियों के अनुरूप काम नहीं करता है और अपने काम के खिलाफ जाकर गलत कदम उठाता है जिसमे उसका जातिगत फायदा होता है उसे समाज सेवा, कल्याण और अपनी ड्यूटी की कोई वैल्यू नजर नहीं आती है सिर्फ और सिर्फ अपना स्वार्थ दिखाई देता है |
  2. पिछले कई सालो से हमारे देश में बढे बढे घोटाले हुए हैं और अगर मै अपने संज्ञान की बात करू तो मेरी समझ के दौरान 2G घोटाला, चारा घोटाला, कोयला घोटाला, कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला, कुभ घोटाला जैसे और भी घोटाले हैं जिनका देश बर्बाद करने में काफी हाथ रहा है|
  3. इससे पहले कई ऐसे राजनितिक पार्टी से जुड़े लोग होंगे जिनकी सरकार के दौरान उन्होंने कई घोटाले किया होगे और कितने करोडो-अरबो रूपये का काला धन बाहरी बैंक में जमा किया होगा जिसका कोई अंदाजा नहीं है |
  4. और इसी तरह का भ्रष्टाचार ब्यूरोक्रेसी में भी होता है जहाँ बैठे बढे बढे अधिकारी भी ऐसे कामो में लिप्त होते है और न जाने कितने घोटाले, घपले किये होते हैं चाहे बड़ा अधिकारी हो या फिर छोटा कर्मचारी ही क्यों नाम हो कोई फर्क नहीं पड़ता है|
  5. भ्रष्टाचार से जड़े हुए लोगो की कोई एक निश्चित पहचान नहीं होती है की सिर्फ इसी वर्ग, समाज, क्षेत्र या फिर तबके का आदमी ही भ्रष्टाचारी हो सकता है वो समाज के किसी भी क्षेत्र, तबके से हो सकता है जो अपनी लालसा को पूरा करने के लिए ऐसे काम करता है |
  6. आज तक हमारे देश में जितने भी भ्रष्टाचार हुए हैं उनमे से मुश्किल से कुछ ही लोगो के खिलाफ कार्यवाही हुई होगी और बाकी के सभी लोग इससे बच जाते हैं और उनके हौसले और बढ़ जाते है |
  7. देश अभी भी विकाशील की राह पर है फिर भी हमारे देश में ऐसे काम होते रहते हैं जो देश को विकसित होने से रोकते हैं हमे अपने देश और समाज से भ्रष्टाचार को दूर करने की आवश्कता है |
  8. भ्रष्टाचारी लोग धन और शोहरत के लालच में इतने डूब जाते हैं की उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है की हम किसी दुसरे का हक़ छीन रहे है और जिस चीज पर वे घोटाला या फिर कब्जा कर लेते हैं वो आम जतना का होता है, जो देश का होता है |
  9. भ्रष्टाचार आज के समय सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों में इस तरह से लिप्त है की एक आम जनता को अपना काम कराने के लिए चंद पैसो की घूस देनी पड़ती है और अगर किसी गरीब के पास घूस के तौर पर पैसे देने के लिए नहीं होते हैं तो वो सरकारी कार्य की सुविधाओं से वंचित हो जाता है |
  10. उदाहरण के लिए अगर कोई बजट पास होता है तो वो नेता, मंत्रियो से होकर बड़े अधिकारियो से होकर छोटे कर्मचारी तक आधे से ज्यादा पैसा खत्म हो जाता है और वो आम जनता तक नहीं पहुचता है और ना ही जिस काम ले लिए बजट पास हुआ था वो पूरा हो पता है अगर हो भी जाए तो काम अधूरा या फिर कच्चा रहता है |

आज के समय हर काम के लिए घूस, रिश्वत देनी पड़ती है कोई भी काम बिना सिफारिश के नहीं होता है जिन लोगो की बड़ी बड़ी पहचान होती है या फिर पैसे वाले होते है वे अपना काम करवा लेते हैं लेकिन आम जतना इसमें पीस जाती है |

अगर आपको ऐसे कई भ्रष्टाचार और घोटाले के मामले जानने हो तो आप रिसर्च कर सकते है जिसे जानकार आप भी हरान हो जाओगे |

हमारा देश एक लोकतांत्रिक देश है लेकिन यह भ्रष्टाचार जो हमारी लोकतांत्रिक प्रणाली को खराब कर रहा है भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कोई सरकार द्वारा अभी तक कोई सख्त कानून नहीं बनाए गये हैं जिससे ऐसे लोगो के हौसले बुलंद है और दिन प्रतिदिन भ्रष्टाचार बढ़ गया है |

भ्रष्टाचार देश के लिए एक कैंसर जैसी बिमारी है जो आतंकवाद से भी भयानक है इन दोनों की तुलना हम एक साथ कर सकते हैं जिसमे कोई भी बुराई नहीं है क्योकि दोनों ही देश को खोखला कर रहे हैं इसीलिए भ्रष्टाचारी एक आतंकवादी और देशद्रोही से कम नहीं है और इनका अपराध एक समान ही है और इनकी सजा भी एक जैसी होनी चाहिए |

भ्रष्टाचार के खिलाफ शिकायत करने के लिए आप निम्नलिखित संस्थानों और विभागों में अपनी शिकायत भेज सकते हैं :

अपनी शिकायत आप पोस्ट, फैक्स, फ़ोन कॉल या फिर इनकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर कर सकते हैं और नियमानुसार आपकी पहचान गुप्त रखी जाती है |

Conclusion (निष्कर्ष) :

हमे भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ना है और लोगो को भी जागरूक करना है की आपने क्षेत्र में, आपकी पहचान में, आपने संज्ञान में जहाँ भी ऐसे लोगो के बारे में पता चलता है तो तुरंत उनके खिलाफ कार्यवाही करवानी चाहिए | अगर कोई आपको रोकने की कोशिश करता है तो आपको लोगो के साथ जुड़कर एक साथ आवाज उठाना है और इसे जड़ से खत्म करने का निर्णय लेना है| अगर आप और हम ये कदम नहीं उठाएंगे तो ये हमे ऐसे ही हमे दबाते रहेंगे |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply