You are currently viewing Difference between Email and Gmail in hindi | ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है?

Difference between Email and Gmail in hindi | ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है?

दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम बात करेंगे की ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है क्योकि आज के समय में भी बहुत से लोगों को इस बारे में दुविधा रहती है की इन दोनों का मतलब एक ही है या ये दोनों अलग अलग हैं |

Difference between Email and Gmail in hindi (ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है?)

What is Email and Email ID in hindi? (ईमेल और ईमेल id क्या होता है?)

ईमेल एक ऐसा डिजिटल प्रोसेस है जिसके द्वारा हम और आप एक दुसरे को मेल भेजते है ये एक तरह का डिजिटल लैटर होता है आज के समय का जिसे आप कभी भी किसी भी समय भेज सकते हैं |

Email को electronic mail भी बोलते है क्योकि इसे हम अपने कंप्यूटर या मोबाइल के माध्यम से ऑनलाइन ही भेज सकते है अगर आपके पास ऑनलाइन नेटवर्क की सुविधा नही है तब तक आप किसी को मेल नही भेज सकते है |

ईमेल से हमारा काम इतना आसान हो जाता है की हम एक मेल को एक साथ बहुत सारे लोगों को भेज सकते है इसमें हमे किसी को अलग अलग भेजने की जरूरत नही होती है |

Email ID सामान्यत abc@gmail.com की तरह होती है जिसमे abc एक username होता है जो किसी का भी नाम हो सकता है जिसके नाम से ID हो और @ के बाद का नाम service provider का नाम होता है |

अगर आपक किसी को मेल भेजना चाहते हो तो आपके पाद एक ईमेल id होनी चाहिए |

What is Gmail in hindi? (जीमेल क्या होता है?)

जीमेल एक तरह से गूगल के द्वारा दी गई एक सर्विस प्रोवाइडिंग कंपनी है जिसका काम मेल भेजने की सुविधा provide कराना होता है

जब भी आपको किसी का मेल आता है और उस ईमेल id के last में जिस भी सर्विस प्रोवाइडर का नाम लिखा होता है तो आप ये समझ लीजिये की वो उस कंपनी के द्वारा provide की गई सर्विस है जैसे abc@gmail.com, abc@yahoo.com, abc@bing.com इत्यादि |

Difference between Email and Gmail in hindi

What is CC ang BCC in Email (Gmail) in hindi? | ईमेल में CC और BCC क्या होता है ?

सबसे पहले बात करते है CC के बारे में, CC का full form होता है carbon copy (कार्बन कॉपी) जिसे हम हिंदी में प्रतिलिपि भी बोलते है |

CC की बात करे तो जब भी हम एक साथ बहुत सारे लोगों को मेल करना होता है और हम चाहते है की ये मेल उनमे से किसी एक को भेजा जाये और बाकि को उसकी कार्बन कॉपी भेजी जाये तो इस परिस्थिति में किसी एक को मेल भेजने के साथ साथ बाकि को CC वाले सेक्शन में भेज दिया जाता है |

इससे ये फायदा होता है की एक मेल की कॉपी बाकि सभी को भेज दी जाती है |

अब बात करे BCC की तो इसका full form होता है blind carbon copy, इसकी ये खासियत होती है की अगर आप एक मेल बहुत सारे लोगों को भेजते हो और उसमे से कुछ लोगों को BCC में मेल कर देते हो इससे क्या होता है की अपने जिसको मेल किया है और जिसको कार्बन कॉपी में मेल किया है उन्हें पता नही चलता है की बाकि किस को मेल किया है |

इसका ये फायदा है की आपको बार बार मेल टाइप नही करना पढ़ता है आप एक समय में ही बहुत सारे लोगों को मेल कर सकते हैं |

Difference between google account and Gmail account in hindi?

गूगल अकाउंट का इस्तेमाल हम किसी वेबसाइट या एप्लीकेशन में sign in और sign up करते समय करते है |

अब बाते करे गूगल अकाउंट और जीमेल अकाउंट की तो गूगल अकाउंट by default जीमेल अकाउंट ही होता है आप चाहे गूगल अकाउंट create करो या फिर जीमेल अकाउंट दोनों का एक ही माध्यम होता है |

क्योकि जीमेल गूगल का ही प्रोडक्ट है तो इसीलिए जीमेल अकाउंट और गूगल अकाउंट का काम एक ही होता है |

तो आपको इस बात का confusion नही होना चाहिए की इस दोनों में क्या अंतर है |

Difference between personal and business gmail account in hindi?

इस दोनों में ज्यादा कुछ अंतर नही होता है अगर बात करे पर्सनल अकाउंट की तो हम अपने पर्सनल लाइफ में जो भी अकाउंट इस्तेमाल करते है वो हमारा पर्सनल अकाउंट होता है और उसे हम किसी भी नाम से बना सकते है चाहे अपने नाम से ही क्यों न बना हो |

हम लोग ज्यादातर अपने नाम से ही बनाते है क्योकि ऐसा जीमेल अकाउंट हम एक बार ही बनाते है और हमे बहुत सारे अकाउंट नही बनाने चाहिए क्यकी ये हमारी प्राइवेसी का मामला होता है और न ही हमे किसी को अपना पासवर्ड बताना चाहिए |

अब बाते करे बिज़नेस अकाउंट की तो आप जिस भी organisation के लिए काम करते हो या फिर किसी भी कंपनी के लिए तो आप वहां अपनी पर्सनल अकाउंट इस्तेमाल नही कर सकते है इसके लिए उस कंपनी में आपका एक official account बनाया जाता है |

इसी तरह अगर आप कोई बिज़नेस चलाते हो तो आप अपने उस बिज़नेस के नाम से अपना बिज़नेस अकाउंट चलाते हो|

बाकी आपको पता चला ही गया होगा की इन दोनों में तकनीकी तौर पर कोई अंतर नही होता है बस username के बाद आपकी कंपनी का बिज़नेस नाम आ जाता है जैसे abc@infotech.com |

Difference between Outlook and Gmail in hindi?

  1. बात करे Outlook की तो इसमें आपको मिलता है traditional file system के साथ जो की काफी सुविधाजनक है लेकिन इसमें ये कमी है की अगर आपको मेल organise  करना है केटेगरी या फाइल के माध्यम से तो outlook वहां पर दिक्कत करता है |
  2. अगर हम जीमेल की बात करे तो यहाँ पर हमे एक label feature देखने को मिलता है जो काफी useful है अगर आपको मेल arrange करना है तो |
  3. अब बात करे डिजाईन की तो किसी को outlook का डिजाईन पसंद आटा है और किसी को जीमेल का |
  4. अगर बात करे connectivity की तो आज के समय में हर कोई multiple अकाउंट इस्तेमाल करता है और multiple अकाउंट को इस्तेमाल करना बहुत बढ़ा टास्क है इसके लिए outlook की तुलना में जीमेल थोडा faster है|
  5. अब स्टोरेज की बात करे तो दोनों में 15GB का storage मिलता है outlook में एडिशनल 5GB की storage मिलती है onedrive में |
  6. Attachment limit की बात करे तो जीमेल में 25MB की लिमिट होती है और outlook में 20MB की लिमिट होती है |
  7. प्राइस की बात करे तो outlook के लिए आपको office 365 इस्तेमाल करना पढ सकता है जो की एक पेड सॉफ्टवेर है लेकिन जीमेल को हम free of cost इस्तेमाल कर सकते है |

और पढ़े : इंग्लिश कैसे सीखे वो भी खुद से

Conclusion (निष्कर्ष) :

अभी तक हमने ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है, cc और bcc में क्या अंतर है, बिज़नेस और पर्सनल अकाउंट में क्या अंतर है, outlook और gmail में क्या अंतर है जैसे टॉपिक में discuss किया है जो की हमारे काफी प्रश्नों का जवाब मिल जाता है | अगर आपने अभी तक अपनी जीमेल id नही बनाई है तो आप निचे दिए गये लिंक पर क्लिक करके अपनी id बना सकते हैं |

अगर आपको इनके अलावा कोई भी प्रश्न पूछना है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply