Essay on artificial intelligence in hindi | आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस पर निबन्ध

दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम आज के समय और भविष्य की तकनीकी के बारे में बात करेंगे और जानेंगे की कैसे आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ने इस समय मनुष्य के निजी जीवन में अपना वर्चस्व कायम कर दिया है |

Artificial intelligence की जब शुरुआत हुई थी तो लोगो ने शायद इस तकनीकी को बहुत ही साधारण तरीके से लिया होगा और सोचा होगा की ये समय के अनुसार ज्यादा प्रभाव नहीं करेगा लेकिन आज के समय आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस बहुत से क्षेत्र में अपना वर्चस्व बना चुकी है और आने वाले समय में भी और ज्यादा चीजो में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का ही इस्तेमाल होगा |

10 Lines Essay on artificial intelligence in hindi : कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर निबन्ध

  1. आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस कृत्रिम तरीके से विकसित की गयी बौद्धिक क्षमता है जिसमे एक मशीन के जरिये उस में सॉफ्टवेयर बनाकर उसे अपने अनुसार काम किया जाता है |
  2. वर्ष 2018-2019 के बजट में वित्त मंत्री ने उल्लेख किया था की केंद्र सरकार का थिंक टैंक नीति आयोग “राष्ट्रीय कृत्रिम बुद्धिमत्ता कार्यक्रम” की रुपरेखा तैयार करेगा जो पांच प्रमुख क्षेत्रो कृषि, शिक्षा, स्वस्थ्य, स्मार्ट सिटी का ढांचा एवं परिवहन में कार्य करेगा जिससे भारत विश्व की 40 प्रतिशत समस्याओं को हल कर आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस गैराज बन सकता है |
  3. आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की शुरुआत 1950 के दशक में हुई 1955 में जॉन मकार्ती ने इसको “कृत्रिम बुद्धिमता” नाम दिया और इसे विज्ञानं और इंजीनियरिंग के बुद्धिमान मशीनों को बनाने के रूप में परिभाषित किया था |
  4. आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर द्वारा नियंत्रित रोबोट या फिर मनुष्य की तरह इंटेलिजेंस तरीके से सोचने वाला सॉफ्टवेयर बनाने का तरीका है यह इसके बारे में अध्ययन करता है की मावन मस्तिष्क कैसे सोचता है और समस्या को हल करते समय कैसे सीखता है, कैसे निर्णय लेता है और कैसे काम करता है |
  5. अक्टूबर 2017 में केंद्र सरकार ने 7-सूची रणनीति तैयार की थी जो भारत की सामरिक योजना का आधार तैयार करेगी आर्टिफीसियल प्रतिक्रियात्मक का प्रयोग कंप्यूटर गेम, प्रवीण प्रणाली, वाक पहचान, प्राकृतिक भाषा प्रसंस्करण, दृष्टि प्रणाली एव बुद्धिमत्ता रोबोट में किया जायेगा|
  6. यह कैंसर पैथोलॉजी रिपोर्ट्स को पढने, स्मार्ट सिटी में यातायात ट्रैफिक को विनियमित करने, किसानो द्वारा उत्पादित चीजो को कहाँ स्टोर किया जाये बताने में और विदार्थियो के विद्यालय छोड़ने जैसी जोखिमो के बारे में बतायेगा |
  7. चीन ने भी आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस पर केन्द्रित एक अनुसन्धान प्रयोगशाला खोलने के बाद गूगल ने भी एक और कार्यालय शनझेन में खोला है चीन की योजना में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस फर्मो के आलावा पांच वर्षीय कार्यक्रमों के लिए 500 शिक्षको एवं 5000 विद्यार्थियों को इस क्षेत्र में सुब्सिटी एवं सहायता राशि देने की घोषणा की गयी है |
  8. भारतीय थिंक टैंक ने आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के लिए प्रवीण एवं कुशल व्यक्तियों की दिशा में कोई कदम नही उठाया है और ना ही इसके फण्ड की व्यवस्था के बारे में कोई रुपरेखा तैयार की है आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का प्रयोग बढ़ने पर रोजगारो में कमी को पूरा करने की दिशा में कोई रुपरेखा तैयार नहीं की है |
  9. मेरा मानना है की अगर आपको इस तरह की टेक्नोलॉजी को अपनाना है तो हमे इसके कुछ नुक्सान को भी स्वीकार करना होगा क्योकि बढती आधुनिक तकनीको को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं |
  10. बहुत सारे लोग जो लोगो के कामो को महत्त्व देते हैं और चाहते है की कोई भी बेरोजगार ना रहे और सभी पैसे कमाये वे लोग इस बात से चिंतित रहते है लेकिन बोल नहीं पाते है |

इसीलिए मै समझता हु की सभी की अपनी अपनी समझ है और हम किसी की भी आलोचना नहीं कर सकते हैं |

artificial intelligence in hindi
Image by Gerd Altmann from Pixabay

Advantages and disadvantages of artificial intelligence (AI) in hindi :

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ने हमारे जीवन में काफी बदलाव किये है लेकिन हमे ये भी देखना है की इसके क्या क्या लाग और नुकसान हो सकते हैं |

Advantages of artificial intelligence (AI) in hindi :

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का मनुष्य के जीवन में एक बहुत बढ़ा योगदान है इसका शिक्षा के क्षेत्र में, मेडिकल के क्षेत्र में, डिफेंस के क्षेत्र में, टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, मनोरंजन के क्षेत्र में, फाइनेंस के क्षेत्र में और भी जितने छोटे छोटे इंडस्ट्री हैं उन सभी जगह आज के समय आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल होने लगा है |

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ने लोगो का काम आसान कर दिया है जिससे मैनपावर और समय की काफी बचत होती है |

आज के समय में इतने उन्नत तकनिकी की मशीनों का निर्माण हो गया है जो एक ही समय में हजारो लोगो का काम कर देती है और इस तरह की मशीन में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस जैसी तकनिकी का ही इस्तेमाल होता है |

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस लोगो के बीच इस तरह से घुल मिल गया है की लोग भी अब इस तकनीक का भरपूर फायदा उठा रहे हैं |

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ने इन्टरनेट के क्षेत्र में क्रांति ला दी है क्योकि लोग अब धीरे धीरे समझने लगे हैं की इस तकनिकी की क्या अहमियत है |

Disadvantages of artificial intelligence (AI) in hindi :

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का जितना फायदा है तो इसके कुछ नुकसान भी हैं जिनके बारे में हम लोग बात नहीं करते है और शायद लोगो को पता भी नहीं है |

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस जैसी तकनिकी ने इंसानों के द्वारा किये जाने वाले कामो को छीन लिया है क्योकि पहले तो सारे काम इंसान ही करते थे और इतनी बेहतर टेक्नोलॉजी भी नहीं थी जिससे सारा काम इंसान हो करते थे चाहे जितना भी समय लगे या पैसा |

लेकिन अगर हमे सहूलियत चाहिए तो हमे थोडा बहुत त्याग भी करना पड़ेगा शायद भविष्य में ज्यादा भी करना पड़े |

ये एक कडवा सत्य है की आने वाले समय में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस हमारे जीवन में हावी हो जाएगा और मानव जीवन के कामो की कार्यो का कोई महत्त्व नहीं होगा |

जब से ऐसी तकनकी आई हैं तब से हमारे देश में इसका बढती बेरोजगारी में भी कारी योगदान रहा है क्योकि अब सारे काम तो मशीनों से ही हो रहा है जो समय और पैसो की बचत कर रहा है तो लोगो की क्या जरूरत |

Conclusion (निष्कर्ष) :

अतः निष्कर्ष निकलता है की नीति आयोग द्वारा किया गया कार्य सराहनीय है भारत के लिए या तब और कारगर होगा जब इस रुपरेखा को किर्यान्वित किया जाए तथा नीति बनाने वालो के भरोसे को मजबूत कर फण्ड की उचित व्यवस्था की जाए |

गूगल न्यूरल नेटवर्क ने कैंसर से जख्मी त्वचा को त्वचा रोग विशेषज्ञों से ज्यादा पहचाने में सफलता भी यह दर्शाती है की आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का प्रयोग भारत में डॉक्टरों की कमी को पूरा करेगा |

मानव की जगह आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का प्रयोग मानव सभ्यता के लिए हानिकारक न सिद्ध हो इस दिशा में उचित नीतिया बनाकर काम किया जाए तो भविष्य में यह देश की प्रगति में मील का पत्थर साबित होगा |

Artificial intelligence में समझाए गये सारे पहलु को समझना बहुत ही जरुरी है क्योकि यही हमारे जीवन में बदलाव लाएगा और हमे इसके साथ साथ चलना है |

FAQs.

1.आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का भविष्य क्या है ?

ये अब आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का ही युग है जहाँ सभी चीजे AI तकनिकी पर ही निर्भर रहेंगी और इसके बिना सारे काम अधूरे रह जाएँगे |
जिस तरह से टेक्नोलॉजी बढ़ रही है उसी तरह से आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का रोल भी बढ़ता जा रहा है आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ने ह्म्र्रे काम आसान कर दिए हैं जिससे भविष्य में इसी का बोलबाला रहेगा |

2.आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का हमारे जीवन में क्या योगदान है?

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ही है जिसने हमारा काम आसान कर दिया है चाहे शिक्षा के क्षेत्र में, टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, मेडिकल के क्षेत्र में या फिर अन्य क्षेत्र में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ही है जिसने इन क्षेत्र में क्रांति ला दी है |
इसलिए हमे इस बात को स्वीकार कर लेना चाहिए की आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस मानव जीवन के साथ ही आगे बढेगा |

3.आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस कितना कारगर साबित हुआ है?

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ने उम्मीद से ज्यादा ही प्रभावित किया है हम देख रहे हैं की जहाँ एक बढे लेवल के काम को करने के लिए मैनपावर के साथ साथ पैसा और समय की जरूरत पढ़ती थी लेकिन आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की मदद से वो सारे काम चुटकियो में हो रहे है|
इस बात से कोई हैरानी नहीं है की आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस कितना कारगर रहा है |

4.आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस मानव जीवन पर क्या प्रभाव पड़ा है?

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का मानव जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ा है जैसे की इसने लोगो का काम छीन लिए है अब सारे काम मशीनों से ही होता है जो आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं जिससे बेरोजगारी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply