You are currently viewing HYPERFOCUS book summary in hindi | Hyperfocus से जुडी महत्वपूर्ण बातें

HYPERFOCUS book summary in hindi | Hyperfocus से जुडी महत्वपूर्ण बातें

दोस्तों इस आर्टिकल को पढने के बाद आपको कभी फोकस करने में प्रॉब्लम नहीं होगी क्योंकि कनेरिया नॉर्थ एंड प्रोडक्टिविटी कंसल्टेंट्स Chris bailey को आज से कुछ साल पहले फोकस करने में बहुत प्रॉब्लम हो रही थी और वह इसलिए क्योंकि Chris के अनुसार उनकी लाइफ सीरीज ऑफ स्क्रीन बन चुकी थी। यानी कि सुबह से लेकर रात तक Chris  स्क्रीन्स के सामने ही रहते थे। लेकिन इन सभी में जो उनका सबसे बड़ा ज्यादा टाइम waste करता था वह था। उनका स्मार्टफोन तो Chris ने सोचा कि मैं ऐसी बुक लिखूंगा जिससे मैं अपना फोकस हमेशा के लिए बेहतर कर सकूं।

दोनों ने खुद पर कहां पर एक्सपेरिमेंट try किए और पूरी दुनिया घूम के कुछ ऐसे एक्सपर्ट से मिले जिन्होंने फोकस और अटेंशन पर सालों रिसर्च की थी और Chris  ने इन सभी चीजों को करने के दौरान 25193 शब्दों के रिसर्च नोट तैयार करें और फिर एक बुक लिखी। “HYPERFOCUS” ताकि वह खुद और वर्ल्ड के काफी लोग अपना फोकस कर सके |

और मेरा मानना है की इस बुक को पढकर आपकी मेंटल हेल्थ में भी काफी सुधार आएगा

My Book Summary Youtube Channel : Click Here

6 important lessons from book HYPERFOCUS :

AllTimeHindi Books

Switching off autopilot mode :

दोस्तों हमारे 40% एक्शन हमारी हैबिट्स से होते हैं जिन्हें करने से पहले हमें consciously ज्यादा सोचना नहीं पड़ता चाहे पर सुबह ब्रश करना हो या रात को सोने से पहले फोन यूज करना यह हमारी हैबिट्स जिन्हें मोस्ट हो तो टाइम हम ऑटोपायलट मोड नहीं कर रहे होते हैं तो इस किताब में ऑथर कहता है की autopilot mode में मत जियो क्योंकि यह हमसे अनकॉन्शियसली वह एक्शन, डिसीजन एंड हैबिट करवाता है जो आगे चलकर हमारे failure का भी कारण बन सकता है। रिसर्च बताती है कि हमारी आंखें चीजों को और धीमे स्कैन करती है जब हमारा दिमाग साथ ही में कुछ और सोच रहा हूं। यानी कि यह दोनों ही साथ में एक साथ मिलकर ऑथर chris bailey इस ऑटोपायलट mode को ठीक करने के लिए ट्रांसलेट को बनाना सजेस्ट करते हैं, जिसमें हॉरिजॉन्ट लेटेस्ट अनअट्रैक्टिव या अट्रैक्टिव है और वर्टिकली प्रोडक्ट एंड थे, जिसमें फर्स्ट नर्सरी वर्ग वह है जो आपके लिए करना जरूरी है और वह आपकी लाइफ में पहली बार करते हैं उदाहरण के लिए अगर आप एक स्टूडेंट है तो आप का प्रोडक्ट एंड नेसेसरी वर्क स्टडी करना होगा और अनअट्रैक्टिव इसलिए क्योंकि आपका पढ़ने का मन नहीं करता होगा।

Also Read : The Defining Decade Book Summary In Hindi

वही अननेसेसरी वो काम है जो आप जरुरी काम से बचने के लिए करते हैं और जो आपकी लाइफ में कोई वैल्यू ऐड नहीं करते जैसे कि काम के बीच में text या मेल्स अनप्रॉडक्टिव वर्क फॉर थे। रिस्पेक्टिव वह कहते हैं जिन्हें आप को करने में मजा आता। जैसे कि घंटों सोशल मीडिया यूज करना लोगों से फालतू बातें करके टाइम वेस्ट करना या गेम्स में पूरा दिन लगाना, लेकिन वही मोस्ट इंपॉर्टेंट को डराता है। पर पलटा तो आपके लिए प्रोडक्ट भी आप करने में सेटिस्फेक्शन मिलती है और वह आपकी लाइफ में वैल्यू भी ऐड करता है जैसे कि अपने पैशन को फॉलो करना अपनी फैमिली फ्रेंडशिप पार्टनर के साथ टाइम बिताना या अपनी हॉबी को अपने प्रोफेशन बना लेना यानी कि जिससे आपकी लाइफ में कोई पहली ऐड होती है। रूचि 4 तारीख के पास आपके टेंशन के लिए कंप्लीट करेंगे। अभी आपके हाथ में क्या आप किस में ज्यादा फोकस करेंगे तो दोस्तों कमेंट में हमारे साथ शेयर करिए कि आपका वह कौन सा कास्ट के जिस पर आप सबसे ज्यादा फोकस देने वाले हैं।

The limits of your attention:

दोस्तों, यूनिवर्सिटी ऑफ virginia के प्रोफेसर ऑफ साइकोलॉजी टेबल संख्या कॉलिंग ह्यूमन ब्रेन एंड सेकंड इंफॉर्मेशन रिसीव करता है, लेकिन उसमें सेटिंग ओपन कर पाता है। इसका मतलब हमारी बहन का भी एक लिमिटेड अटेंशनल स्पेस होता है और यह उतना ही अटेंशन एक वक्त में आप पूरे दिन में दे सकता है। जितना टाइम इन स्पेस है कि मैं रिकॉर्डिंग हमारे मेमोरी एक कंप्यूटर की राम की तरह है जितना राम का। यूज़ करके उतनी ही पावर भी लगेगी जाने कि अगर हमारा अटेंशन स्पैन ज्यादा है तो उतना ही ज्यादा हम किसी एक चीज पर एक वक्त पर फोकस कर पाएंगे। अच्छी तरह हम अपने फोकस को कैसे डिलीट करते हैं। इसका एग्जांपल ही होगा कि अभी आप में से ज्यादातर लोग यह आर्टिकल पढ़ते पढ़ते दूसरी आर्टिकल को भी पढना चाह रहे होंगे यानी क्या आप एक साथ अपने अटेंशन स्पेस में काफी चीजें कर रहे हो तब याद के लिए किसी एक चीज से फोकस करना मुश्किल होता है और कहते हैं कि आप एक वक्त में अपने 10 स्पेस में जितने टास्क भरते जाओगे उतना ही आप उनको गर्ल्स एंड एंड तरफ से बनते जाओगे तो अगर आपका task-1 है। पढ़ाई करना और task-2 है। साथ में गाने सुनना तो आप किसी भी एक टास्क में ठीक से फोकस नहीं कर पाओगे। लेकिन अगर आप इसमें सिर्फ एक डांस को अपना टेंशन स्पेस दोगे तो आपका टेंशन स्पेस एंड फोकस उतना ही बेहतर होता जाएगा।

The power of HYPERFOCUS :

जब बात अभी हमारे मोस्ट इंपॉर्टेंट स्कोर करने की इतनी कम चीजों को आप अटेंशन देते हैं, उतनी ही productive आप बनते हैं जब आप अपने थॉट और external एनवायरनमेंट को एक साथ लाइन करके इंटेंशनली एक ही चीज पर डायरेक्ट करके ले आते हैं तो आप हायपर फोकस के स्टेट में एंटर कर जाते हैं औरऑथर कहते हैं कि हायपरफोकस की चार stages होती है पहली है। एक मीनिंग फुल एंड productiveकाम को choose करना, जिस पर आप अटेंशन देना चाहते हैं। दूसरा बाहरी और अंदरूनी डिस्ट्रक्शन को खत्म करना है। तीसरा एक टास्क पर फुल फोकस करना और चौथा है  लगातार अपने फोकस अपने काम पर वापस लेकर आना, जितनी भी बार आपका फोकस इधर-उधर भागे तो हायपरफोकस में आपको एक इंपॉर्टेंट कॉन्प्लेक्स देखने वाले टास्क पर अपना अटेंशन एंड अवेयरनेस बनाकर रखनी होती है। इसको अच्छे से फॉलो करने के लिए ऑथर तीन इंटेंशनल सेटिंग्स को करना सजेस्ट करते हैं। हर दिन की शुरुआत में सिर्फ तीन टास्क चुनो जो आप उस दिन में कंप्लीट करना चाहते हो। किसी एक काम को करने के पीछे उसके परिणाम को भी देखो। हर 1 घंटे का टाइमर सेट करो और उस टाइमर के बचने के बाद रिप्लाई करो कि क्या इस पूरे 1 घंटे के दौरान में फोकस था या में ऑटो पायलट मूड में था।

HYPERFOCUS book summary in hindi
HYPERFOCUS book summary in hindi

Teaming Distractions

इसका मतलब होता है। किसी भी चीज को अपने कंट्रोल में करना या फालतू बनाना तो यहां टाइमिंग स्टेशन से मतलब है। आपने डिस्ट्रेक्शन को अपने हिसाब से कंट्रोल करना और अपना फालतू बनाना ताकि डिस्ट्रक्शन आपको नहीं बल्कि आफ डिस्ट्रक्शन को कंट्रोल कर सके। अब आओ तब क्या करें कि 4 तरह के दृश्य चेंज होते हैं। पहला को तो आना ही है और जिस पर हम। कंट्रोल नहीं है जैसे कि लाउड ऑफिस कलीग्स सदन मीटिंग है या बाहर से तेज आवाज वाला दूसरा है जिस पर हमारा कंट्रोल तो नहीं है, लेकिन वह हमारे लिए करना है जैसे कि लंच टाइम में ऑफिस करें या फ्रेंड के साथ लंच करना, आपकी लाइट बंद का कॉल आना या किसी का आपके साथ मीम शेयर करना एक्स्ट्रा तीसरा है जिसे आप कंट्रोल कर सकते हैं, पर वह आना ही है। जैसे की इमेज मीटिंग अनवांटेड कॉल्स फॉर थे, जैसे आप कंट्रोल कर सकते हैं, उसे करने में आपको मजा भी आता है जैसे कि एंटरटेनिंग कंटेंट सोशल मीडिया अकाउंट एंड इंस्टेंट मैसेजिंग, लेकिन इन सभी डिस्ट्रक्शन से दिल कैसे करा जाए और कहते हैं कि नो कंट्रोल एंड सेक्शन से आपको डील करना ही पड़ेगा। यू हैव नो चॉइस तो फोकस करने की कोशिश करो। नो कंट्रोल एंड पन को आप एंजॉय कर सकता है और कंट्रोल वाले सेक्शन को आप टाइम से पहले निपटाने की कोशिश करो। ऐसा करने से आप अपने डिस्ट्रेक्शंस को अच्छे से हैंडल कर पाएंगे।

Your brain’s hidden creative mode :

 Scatter फोकस आपके intentional माइंड कि वो पावर है जो आपके भटके में माइंड को एक डायरेक्शन देती है और आपके अटेंशन को आपके अंदर लेकर आती है तो जहां हायपरफोकस का मतलब होता है किसी एक चीज से फोकस करना। वही scatter focus का मतलब है किसी भी एक चीज पर फोकस नहीं करना बल्कि अपनी सोचो क्रिएटिव एंड फ्री रखना, हायपरफोकस पर आप external task वाली चीजों पर फोकस करते हैं वही आप scatter focus पर अपना टेंशन अपने अंदर झांके इन वोट करने की कोशिश करता है। हायपरफोकस अटेंशन के बारे में और scatter focus अटेंशन ना होने के बारे में है और दोनों ही जरूरी है। हमारा मन past एंड present की सोचने से ज्यादा future के बारे में सोचने के लिए भटकता है। हम आम तौर पर immediate फ्यूचर के बारे में सोचते हैं। इस समय का ज्यादातर टाइम प्लानिंग नहीं स्पेंड होता है। इस वजह से scatter focus हमे इंटेंसली एक करने में ज्यादा सक्षम बनाता है तो आपको इस कार्य को कस के लिए स्कैटर फोकस की तीन स्टाइल की जरूरत होगी। पहला तो आपको अपने माइंड को फ्री छोड़ना होगा और उन आईडियाज एंड थॉट्स को आपको आईडेंटिफाई करके कैप्चर करना है जो आपके माइंड में आए 2nd आपको उस प्रॉब्लम को अपने दिमाग में होल्ड करना है जिसे आप कॉल करना चाहते हैं और उसे सॉल्व करने के लिए आप आइडिया और सलूशन निकालो उस प्रॉब्लम को डिफरेंट एरियाज एंड पर्सपेक्टिव्स से सोच के,  थर्ड आप नॉर्मल वॉक करते समय नहाते समय या ब्रश करते समय आने वाले। आइडिया एंड प्लेन को भी कैप्चर कर सकते हैं और उनके बारे में सोच सकते हैं। इस तरह की सभी है बेटा आपको स्टैंड पर फोकस करने में मदद करती है।

Recharging your attention :

जरूरत के अकॉर्डिंग अच्छी नींद लेना हमारे attentional space को 58% इंक्रीज कर सकता है और काम के बीच में कुछ टाइम के लिए break लेना भी यही same इफेक्ट दिखाता है author कहता है कि अगर आप 1 घंटे नींद कम लेते हो तो आप अगले दिन की 2 घंटे की प्रोडक्टिविटी खो रहे हो। उतना ज्यादा हम अपनी मेटल एनर्जी को रिचार्ज और फ्रेश होने के लिए टाइम देंगे। उतनी ज्यादा एनर्जी हमारे पास हो गए। हमारे मोस्ट इंपॉर्टेंट का स्कोर करने के लिए refreshing breaks के तीन कैरेक्टर स्टिक्स है। आपकी बहुत ही बीच के ब्रेक ऐसे होने चाहिए जिसमें आपकी ज्यादा effort ना लगे और वह है। बचा लो और जिसे आप सच में इंजॉय करते हो और जो आपको एक और काम ना लगे यानी कि हमारे ब्रेक्स में ऐसी चीजें होनी चाहिए जो प्लेजरेबल हूं जैसे कि एक शॉट वॉक पर जाना ऐसा कुछ पढ़ना जो आप कौन हो? नॉट वर्क लेटर म्यूजिक सुनना अपने को वर्कर एंड फ्रेंड के साथ कुछ टाइम बताना और चर्चा जितनी बार आप इंटेंस वर्क एंड है पर फोकस करेंगे। उतनी ही बार आपको अपने ब्रेन को रिचार्ज करने की जरूरत होगी तो फोकट के साथ ही रेस्ट और रिचार्जिंग भी इंपोर्टेंट है

और पढ़े : healthy food पर निबन्ध

Final words :

तो दोस्तों आपको कैसी लगी chris bailey की hyperfocus book summary in hindi को पढकर? मुझे तो इससे बहुत कुछ सिखने को मिला और मई इसे अपनी लाइफ में भी अमल करूँगा |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply