You are currently viewing Essay On Indian Politics In Hindi | भारतीय राजनीति पर हिंदी निबन्ध

Essay On Indian Politics In Hindi | भारतीय राजनीति पर हिंदी निबन्ध

हेलो दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम भारतीय राजनीति पर एक विस्तारपूर्वक निबन्ध लिखेंगे जिसमे हम Indian politics का इतिहास, वर्तमान के समय चल रही राजनीति पर अपनी राय देंगे| क्योकि भारत की राजनीति बहुत बड़ी है जिसे शायद हम 1000 से 2000 शब्दों में भी बयाँ नहीं कर सकते हैं इसके लिए हमे और आपको काफी रिसर्च करना पड़ेगा |

भारतीय इतिहास को अगर आप शुरुआत से जानो तो कई ऐसे राजनेता हुए हैं जिनका नाम अभी भी लिया जाता है क्योकि वे इतने बड़े राजनीतिज्ञ थे की उनका कोई मुकाबला ही नहीं था आज के समय शायद ही कोई ऐसे नेता होंगे जो उनके नक्शेकदम पर चलते हो |

Important essay on indian politics in hindi : भारतीय राजनीति के बारे में महत्वपूर्ण निबन्ध

History of indian politics in hindi : भारतीय राजनीति का इतिहास

भारत की राजनीति आज की नहीं बल्कि यह तो आजादी से पहले की है जब उस समय के नेता देश के लिए काम करते थे देश को आजाद कराने में उन जैसे नेताओं का ही हाथ था और उन्हें हमे एक सच्चा राजनेता कहना चाहिए जिनका मकसद देश सेवा, समाज सेवा और जनता की सेवा करने का मकसद था |

आजादी के बाद से भारतीय राजनीति में भी बदलाव आते रहे और राजनितिक पार्टी बनने लगे, लोगो का अपना अलग मकसद बन गया| अलग अलग विचारधारा के लोग अपने अपने हिसाब से उन राजनितिक संगठनों के साथ जुड़ने लगे |

एक संवैधानिक और लोकतांत्रिक तरीके से देश चलने लगा जिसे कुछ राजनितिक पार्टी की सरकार अपने ढंग से चलाने लगी और देश आगे बढ़ते गया| सरकारे बदलती गयी और साथ साथ में भारतीय राजनीति में बदलाव भी होते रहे |

हमे देश ने कई नेता दिए, आजादी के समय सुभाष चन्द्र बोस, पंडित जवाहर लाल नेहरु, लाल बहादुर शास्त्री, सरदार बल्लभ भाई पटेल जैसे और भी कई नेता हए जिनका देश आजाद कराने में योगदान रहा| उस समय हमारे पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु और राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद बने जोकि आजाद भारत के सबसे बड़े पद पर विराजमान हए |

उसके बाद से कई नेता आये, कभी किसी एक की सरकार बनी तो कभी किसी दुसरे की सरकार बनी और सभी ने अपने तरीके से देश को चलाया |

Modern indian politics in hindi : भारतीय राजनीति का नया दौर

भारतीय राजनीति में बदलाव इंदिरा गाँधी की सरकार से काफी आने लगा और देश को आजाद हुए भी काफी साल हो गये जिससे राजनीति में बदलाव होना तो लाजमी था |

पिछले 70 से 75 सालो में भारत में कांग्रेस पार्टी की देश के ज्यादा समय तक सरकार रही और लोगो ने उन्हें पसंद भी किया चाहे मुद्दा कोई भी हो लेकिन इंदिरा गाँधी के समय हो या फिर राजीव गाँधी के समय हो या फिर मनमोहन सिंह की सरकार हो हर सरकार में कुछ ना कुछ अच्छे काम भी होते हैं तो बहुत बड़ी बड़ी गलतियां भी होती हैं जिनके बारे में आप रिसर्च कर सकते हैं |

जहाँ तक मैंने देखा है 2004 से लेकर 2014 तक देश में कांग्रेस की सरकार थी जिसमे कई बड़े बड़े काम भी हुए तो घोटाले और भ्रष्टाचार भी हुए और मै इन बातो पर बात नहीं कर सकता हु और ना ही आपको फैक्ट्स गिना सकता हु |

इसी तरह से 2014 से अभी तक बीजेपी की सरकार है और इसमें भी कई बड़े बड़े काम हुए हैं तो इस सरकार पर भी विपक्षी सरकार ने कई बार घोटाले और भ्रष्टाचार के आरोप लगाये हैं जो वैसे पुख्ता तौर पर साबित नहीं हुए|

कुछ ऐसे मुद्दे थे और जिन पर तो इस सरकार ने पुख्ता काम किया लेकिन कुछ ऐसे मुद्दे भी थे जो पूरी तरह से विफल रहे और हाल ही के समय में तो कृषि क़ानून 2020 जैसे मुद्दे को आप देख सकते हैं की पिछले कई महीनो से किसान धरने पर बैठे हुए हैं |

Essay On Indian Politics In Hindi
Image by KEVIN STEEL from Pixabay

हालाँकि मै मानता हु की सरकार जो भी लाये वे जनता या फिर किसानो के विरुद्ध नहीं हो सकती है क्योकि सरकार हमारे ही देश की है और हमारे लिए ही काम करती है लेकिन मुझे लगता है की सरकार ने इस पर अपना होमवर्क सही से नहीं किया वरना ये नौबत नहीं आती और वैसे सरकार का कहना है की हम इस बिल से पीछे नहीं हटेंगे |

इस सरकार ने कुछ ऐसे कदम भी उठाये और कुछ ऐसे काम भी किये जिससे पूरी दुनिया भारत को जानने लगी है चाहे अपनी विदेश कूटनीति हो, डिफेन्स हो, वैक्सीनेशन हो, वैक्सीन का प्रोडक्शन हो, या फिर कोई भी इंटरनेशनल मुद्दा हो अभी जगह इस सरकार के साथ देश को सपोर्ट मिला |

विरोधी पार्टी का तो हमेशा ही विरोध रहता है चाहे कांग्रेस की सरकार होती या फिर बीजेपी की होती, राजनीति में आरोप प्रत्यारोप तो चलते ही रहते हैं |

Dark side of indian politics in hindi : भारतीय राजनीति का काला सच

अभी के समय पिछले 10 से 15 सालो में आप देखोगे तो राजनीति का स्तर काफी बदल गया है अब ऐसा लगता है की राजनितिक पार्टी दुश्मनी निकाल रही है और जनता को काफी पीछे छोड़ दिया है और यह मुद्दा सिर्फ राजनितिक पार्टी के तहत ही रह गया है |

मेरा कहना यह है की जब किसी पार्टी की सरकार कोई काम करती है और वो काम सच में देश और जनता हित में हो तो विपक्षी पार्टी को उस सरकार का सम्मान करना चाहिए क्योकि अगर अगली बाद आपकी भी सरकार आये तो उनसे भी यही उम्मीद की जाए |

लेकिन जब कोई मुद्दा ऐसा हो जिसमे संसोधन की जरूरत है तो उस पर आपस में विचार विमर्श कर सके, लेकिन आभी के समय ऐसा बिलकुल नहीं होता है राजनितिक पार्टी आपस में ही लड़े जा रही है जनता की कोई नहीं सुनता है की उन्हें क्या सही लगता है क्या गलत |

हर पार्टी दुसरे की सरकार गिराने और अपनी सरकार बनाने में लगी है किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है की इन पांच सालो में काम कर लु, लेकिन मुझे लगता है की पांच सालो में से एक साल तो आन्दोलन, धरने, विरोध प्रदर्शन और बहस पर ही निकल जाते हैं और बाकी के एक साल तो चुनाव में ही निकल जाते हैं और काम करने के लिए सिर्फ तीन साल बचते हैं |

यही है आज के राजनीति का काला सच जो कोई बदल नहीं सकता है और ना ही इसे नकार सकता है जानते सभी है लेकिन इस मुद्दे पर कोई बात नहीं करता है और पिस जाते है आम जनता, जिन्होंने अपना वोट देकर इन्हें जिताया है |

मेरा मानना है की सौ में से सिर्फ दो ही ऐसे नेता होते हैं जो जनता की सेवा करते हैं बाकी सभी अपनी राजनितिक करियर बनाने में लगे रहते हैं उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है जनता से और ना ही देश के विकास से |

अगर कोई राजनेता निस्वार्थ भाव से काम करे तो मेरा मानना है की अगर वो किसी पार्टी से चुनाव भी नहीं लडेगा तो वो निर्दलीय ही जीत जाएगा| क्योकि एक बार आप जनता की नजरो में आ जाए तो आपको कोई हरा नहीं सकता |

Final word :

दोस्तों वैसे तो भारतीय राजनीति काफी बड़ी है जैसे की मैंने पहले ही बोला था लेकिन आपको यह देखना है की आप किसे चुनते हो मेरा मानना है की किसी पार्टी को देखकर नहीं उस इंसान को चुने जो आपके लिए काम करे |

महत्वपूर्ण नोट : मेरा किसी भी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है और ना ही मै किसी एक पार्टी का समर्थक हु क्योकि एक पार्टी में अच्छे नेता भी होंगे तो बुरे नेता भी होगे, इसीलिए अगर आपको लगता है की मैंने इस टॉपिक में कुछ पक्षपात किया है तो मुझे माफ़ कर दीजिये मै कोई बहुत बड़ा राजनितिक विशेषज्ञ नहीं हु यह मेरा पर्सनल नजरिया है जिसके आधार पर मैंने अपनी बात रखी है |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply