You are currently viewing Essay on mental health in hindi | मानसिक स्वास्थ्य पर निबन्ध.

Essay on mental health in hindi | मानसिक स्वास्थ्य पर निबन्ध.

दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम बात करेंगे mental health in hindi के बारे में जिसमे हम मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात करेंगे और जानेंगे की आज के समय में हर कोई इस समस्या से जूझ रहा है |

मानसिक बीमारी के कारण, इसका उपाय के बारे में जानना बहुत जरुरी है और इसका हमारे स्वास्थ्य में कितना बुरा प्रभाव है ये जानना भी जरुरी हो गया है |

जो लोग इस बारे में ज्यादा बात नही करते है उन्हें अपनी समस्या को नही छुपाना चाहिए और इसके निदान के लिए हर किसी को योग का पालन करना चाहिए |

10 Lines Essay on mental health in hindi : मानसिक स्वास्थ्य पर निबन्ध

  1. हमारे जीवन में मानसिक स्वास्थ्य इतना जरुरी है की अगर कोई इससे ग्रसित हो गया तो इससे उबरने में कई साल लग जाते हैं इसीलिए कहा जाता है, “स्वाथ्य ही जीवन का धन होता है सोना, चांदी, हीरा, मोती नहीं और ना ही धन सम्पति |
  2. अगर आपका स्वास्थ्य ही नही रहेगा तो इस चीजो का कोई मोल नही और हमे इस बात को बखूबी समझना होगा |
  3. आमतौर पर लोग सिर्फ अपने शरीर पर ही ध्यान देते है और मानसिक बिमारी को छुपाते हैं जिसका उनको भारी नुक्सान भुगतना पड़ता है लेकिन ये भी उतना ही सही है की मानसिक स्वास्थ्य उतना ही महत्वपूर्ण होता है हमारे जीवन में जितना की शारीरिक |
  4. हम अपने तंदरुस्त दिमाग के कारण ही अपने जीवन में सही निर्णय ले पाते हैं इसके लिए हमारे दिमाग का फिट होना बेहद जरुरी है |
  5. हमारे जीवन में कुछ ऐसे नकारत्मक कारक है जो हमारे स्वास्थ्य में बुरा प्रभाव डालते है हमेशा मानसिक रूप से तंदरुस्त व्यक्ति हमेशा खुश रहता है और खराब हालात में भी सही कार्य कर लेता है |
  6. मानसिक फिटनेस हमारी महसूस करने और सोचने की शक्ति में मदद करता है जो जीवन का आनन्द लेने में भूमिका निभाता है |
  7. आज के इस भागदौड़ भरी लाइफ में हर कोई इस समस्या से परेशान है जिसकी तरफ कोई ध्यान नही देता है लेकिन हमे इस बात को समझना होगा की मानसिक स्वास्थ्य हमारे जीवन में कितना जरुरी हो गया है |
  8. आज के समय में अपनी इस बीमारी के लिए डॉक्टर से सम्पर्क करते है फिर भी उन्हें इससे निजात पाने में कठिनाई होती है |
  9. इसीलिए अपने जीवन से जुडी हर मानसिक बिमारी को दूर करने की कोशिश करे ताकि ये आपकी लाइफ को ख़राब न करे क्योकि हम जो भी काम करते है या फिर जो भी निर्णय लेते है इसके लिए हमारे मेंटल हेल्थ जा स्वस्थ होना जरुरी है|
  10. मानसिक बीमारी व्यक्ति के महसूस, सोचने एवं काम करने के तरीके को प्रभावित करता है यह रोग व्यक्ति के मनोयोग, स्वभाव, ध्यान और बातचीत करने की क्षमता में दिक्कत पैदा करता है |

और पढ़े : ड्रग्स के लत पर निबन्ध

mental health in hindi
Image by Wokandapix from Pixabay

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर निबन्ध | essay on world mental health day in hindi

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पूरे विश्व में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे पर जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से हर साल 10 अक्टूबर को मनाया जाता है इस वर्ष विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का विषय मनोवैज्ञानिक प्राथमिकता चिकित्सा है |

इसके अनुसार मनोवैज्ञानिक प्राथमिक चिकित्सा में सामाजिक और मनोवैज्ञानिक दोनों सहयोगो को शामिल किया गया है जैसे की सामान्य स्वस्थ देखभाल कभी भीं अकेले शारीरिक प्राथमिक उपचार के लिए नही होती है |

वैसे ही मानसिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली अकेले मनोवैज्ञानिक प्राथमिक उपचार के लिए नही होती है |

मनोवैज्ञानिक प्राथमिक चिकित्सा के क्षेत्र में निवेश करना एक लम्बी अवधि का हिस्सा है जो ये सुनिश्चित करता है की संकट के कारण कोई भी गंभीर समस्या से पीड़ित इंसान के लिए सहयोग देने में सक्षम होगा |

जिन लोगो को मनोवैज्ञानिक प्राथमिक चिकित्सा से ज्यादा सेवाओ की आवश्यकता होगी उन्हें अतिरिक्त सहायता प्राप्त होगी |

मानसिक स्वस्थ्य की बीमारी पूरे देश भर में होने वाली सामान्य बीमारियों में से एक है विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार मानसिक विकारो से पीड़ित व्यक्तियों की अनुमानित संख्या 400 मिलियन है जो की भारत में लगभग 1.5 मिलियन व्यक्ति जिनमे बच्चे एवं किशोर भी शामिल हैं |

अंत में व्यक्ति मानसिक बीमारी का शिकार हो जाता है उसे दैनिक जीवन के कार्यकलापो के लिए भी संघर्ष करना पड़ता है जिसके कारण यह गंभीर समस्या चिंता का विषय बन जाती है |

इसीलिए भारत सरकार ने देश में मानसिक बीमारी के बढ़ते समस्या पर विचार करने के उद्देश्य से साल 1982 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम की शुरुआत की |

मानसिक बीमारी के मूल कारण :

मानसिक बीमारी के मूल कारण मानसिक स्वास्थ्य समस्या के लिए कई कारक उत्तरदायी है:

  • परिवेश सम्बन्धी तनाव जैसे की चिंता, अकेलापन, साथियो का दवाब, आत्मसम्मान में कमी, परिवार में मृत्यु या तलाक
  • दुर्घटना, चोट, हिंसा एवं बलात्कार से मनोवैज्ञानिक आघात होना
  • आनुवंशिक असामान्यताए
  • मस्तिस्क की चोट/दोष
  • अल्कोहल एवं ड्रग्स जैसे मादक पदार्थो का सेवन
  • संक्रमण का कारण दिमाग की बीमारी

मानसिक रोग से सम्बन्धित ग़लतफ़हमी सबसे बड़ी गलत धारणा है की मानसिक विकारों से पीड़ित व्यक्ति जनता के लिए हिंसक होता है इस तरह के ग़लतफ़हमी के कारण मानसिक विकारों से पीड़ित व्यक्ति समाज से अधिक दूर हो जाते है |

मानसिक विकार से पीड़ित व्यक्तियों का प्रभावी ढंग से संवाद न करने की क्षमता के कारण उनका सम्पूर्ण समाज के साथ साथ सामान्य जनता पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है |

मानसिक रोग से पीड़ित व्यक्ति के साथ व्यवहार :

  • उनकी भावनाओ एवं स्वभाव को समझे तथा उनके साथ प्रभावी ढंग से संवाद करने का प्रयास करे
  • उन्हें भावनात्मक एवं सामाजिक सहयोग दे
  • उनके साथ धैर्यपूर्वक व्यवहार करें तथा आत्मविश्वास को बढ़ावा देने में सहयोग करे
  • उन्हें रचनात्मक एवं मनोरंजन गतिविधियों जैसे की पढने, खेलने, घूमने एवं यात्रा में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करे
  • उन्हें नया सिखने एवं नयी रुचिया विकसित करने में प्रेरित करें
  • उनमे जीवन के प्रति सकारात्मक सोच पैदा करे
  • उपने दैनिक कामकाजो से समय निकलकर उनकी सहायता करे

also read : Education system in hindi

Conclusion : निष्कर्ष

मानसिक बीमारी का इलाज पूर्णत संभव है हम अपने जीवन में बदलाव लाकर और अपनी सोच को सकारत्मक करके इस बीमारी को दूर कर सकते हैं |

नियमित व्यायाम और योग जैसे तरीके इस समस्या के लिए बेहतर साबित हुए हैं हमे अपने जीवन में अच्छा भोजन और पूरी नींद लेना जरुरी है और तनावमुक्त होना भी बेहद जरुरी है

सबसे महत्वपूर्ण बात, हमे अपने आस पास आचे लोगो के सम्पर्क में रहना है जो आपके साथ सभी परिस्तिथि में साथ दे चाहे दुःख हो सुख हो क्योकि अगर आप कभी किसी परेशानी में होगे तो आपने साथियो का साथ में होना भी जरुरी है |

Mental health in hindi का ये टॉपिक अपने आप में ही बहुत महत्वपूर्ण टॉपिक है जो भी इससे जूझता है कभी भी खुल कर बात नही करता है जो इनके लिए परेशानी का सबब बन जाता है |

अगर आपको इस टॉपिक में सम्बन्ध में कुछ भी पूछना हो तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply