The Power Of Now Book Summary In Hindi By Eckhart Tolle

हेलो दोस्तों The power of now book को पढकर आप अपने ब्रेन के painful thoughts को काबू करने में सफल हो पाओगे | आप state of happiness में रहना सीख जाओगे | ऐसे में आपकी बॉडी एनर्जी से भर जाएगी और बिमारी और कमजोरी आपसे कोसो दूर होगी |

The Power Of Now Book Summary In Hindi | The Power Of Now Audiobook Summary

तो आइये जानते है the power of now बुक को संक्षिप्त समरी के माध्यम से :

1.Separate Your Mind And Body

सबसे पहले हमारे दुखो का मुख्य कारण हमारा ब्रेन ही होता है क्योकि कई बार हमारा दिमाग बीती हुई बातों के बारे में ही सोचते रहता है जिससे हम दुखी होते हैं और इसका बुरा असर हमारी बॉडी को भी झेलना पड़ता है |

क्योकि जब हम दुखी होते हैं तो हमारे एड्रेनल ग्लैंड कुछ स्ट्रेस होर्मोन छोड़ने लगती हैं इन होर्मोन की वजह से हमारी हार्ट बीट एकदम बढ़ जाती है, साँसे तेज हो जाती हैं, हमारा गला सूखने लगता है और हमे तनाव होने लगता है |

इस तरह स्ट्रेस लम्बे समय तक रहने से हमारी इम्युनिटी पॉवर कम होने लगती हैं जिससे हमे तरह-तरह की बीमारियाँ हो जाती हैं इसीलिए लेखक ने ब्रेन को बॉडी से अलग रखने को कहा है जिससे आप अपने ब्रेन के नेगेटिव thought को बॉडी तक नहीं पहुचने दे सकते हैं |

इसी तरह से गौतम बुद्धा ने भी मैडिटेशन के जरिये ऐसी स्थिति प्राप्त कर ली थी वे अपने ब्रेन पर पूरा कण्ट्रोल कर लेते थे |

Also Read : Factfulness Book Summary In Hindi

2.Observe Your Mind (The Power Of Now Book In Hindi)

जब आप अपने ब्रेन से अपनी बॉडी को अलग कर लेते हैं तो उसके बाद ये सोचे की ऐसी कौन सी thinking थी जो आपको परेशान कर रही थी |

ऐसे में यदि आपको दूसरो से ईर्ष्या हो रही है तो ऐसे विचारों को खुद से अलग करो | आप ये सोचे की दूसरो ने जो हासिल किया है वो उसके मेहनत का फल है आप भी मेहनत करोगे तो आपको भी सफलता जरुर मिल जाएगी |

दूसरो की शोहरत से खुद की तुलना करने से कोई फायदा नहीं है से सब बाद में यहीं रह जाना है ऐसे बेफिजूल के विचारों को अपने मन से निकाल दो | तभी ये नेगेटिव विचार आपको परेशान नहीं करेंगे |

3.Live In Present (The Power Of Now Summary In Hindi)

कुछ लोग तो बीते हुए पलों में ही जीते हैं तो कुछ लोग भविष्य की सोच में ही पड़े रहते हैं इन दोनों परिस्थिति में ये लोग दुखी ही रहते हैं ऐसे में वे बीती हुई गलतियों का रोना रोते रहते हैं आप कितना भी रो लें, वो समय कभी वापस नहीं आएगा |

इसी तरह जो फ्यूचर की चिंता में ही खोये रहते हैं वे सोचते रहते हैं की कब मेरी नौकरी लगेगी और कब मै अमीर बनूंगा ? हर कोई इसी चिंता में डूबा हुआ है |

इसी चक्कर में लोग अपनी वर्तमान लाइफ को ठीक से जी नहीं पाते हैं | आपको प्रेजेंट में जीना सीखना होगा | जो भी अभी आपके पास है और अभी तक आपने हासिल किया है उसके लिए इस ब्रहमांड को शुक्रियादा करें | ऐसा करने से आपको अंदर से ख़ुशी मिलेगी और आपको लगेगा की आपके पास जो भी है बहुत है |

आपको छोटी-छोटी चीजो में खुशियाँ ढूंढनी चाहिए और ऐसे में दूसरो से अपनी बराबरी की न सोचे |

4.Accept The Tragedies (The Power Of Now Audiobook In Hindi)

जरा-सी भी मुसीबत आ जाए तो आप सोचते हैं की हे भगवान् ये मेरे साथ ऐसा क्यों हो रहा है? लेकिन असल में ये एक नेगेटिव स्टेटमेंट है जो आप अपने ब्रेन को दे रहे हैं इसे आपका ब्रेन demotivate हो जाता है फिर आपकी तरफ और मुश्किलें आने लगती हैं |

ऐसा बिलकुल भी नहीं होता है की सिर्फ किसी एक की ही लाइफ में प्रॉब्लम हो सकती हैं बाकी किसी और के नहीं हो सकती हैं | प्रॉब्लम तो सभी के लाइफ में होती हैं |

आपको अपना ऐसा mindset बना लेना चाहिए की चाहे कितनी भी मुश्किलें आ जाए मै हमेशा तत्पर रहूँगा | इन प्रॉब्लम को मै सुलझाते रहूँगा और अपने लाइफ में खुशियों का मजा लेते रहूँगा |

आप दूसरो की मदद भी ले सकते हैं लेकिन आपकी भी दूसरो की मदद करने की आदत होनी चाहिए | कोई बुरी घटना घट जाने पर ज्यादा दुखी ना हो जाए | बल्कि उसे पॉजिटिव तरीके से स्वीकार करें और खुद को संभाल कर आगे बढ़ने की कोशिश करो |

Also Read : Year Of YES Book Summary In Hindi

5.Be In Alert State (The Power Of Now Book Review In Hindi)

जब आपकी लाइफ में अच्छे दिन आते हैं तो आप बाकी चीजो को भूल जाते हैं आपको ध्यान में रखना है की पल-पल जिन्दगी बदलते रहती है ऐसे में आपको हमेशा अलर्ट रहना चाहिए | कोई भी महत्वपूर्ण काम कर रहे हो, उस समय और ज्यादा अलर्ट रहना चाहिए |

आपके दिमाग में कोई क्रिएटिव आईडिया आया हो और आपने ध्यान नहीं दिया तो जरुरी नहीं है की वो आईडिया बार-बार आपके दिमागे में आएगा | ऐसे आईडिया जल्दी से गायब भी हो जाते हैं इसीलिए अलर्ट मोड में रहना चाहिए |

लाइफ के किसी भी मोड़ में कुछ भी घटना हो सकती है चाहे अच्छी हो या बुरी | इसीलिए ये मानकर ना बैठे रहो की सबकुछ अच्छा रहेगा कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी |

6.Ego Is Destructive

कुछ लो जरा सी सफलता पाते ही ego में आ जाते हैं उनमे घमण्ड आ जाता है वे अपने सामने लोगो को कुछ भी नहीं समझते हैं ऐसे में उनका धीरे-धीरे पतन होने लगता है | ऐसे लोग से negative vibe आने लगती हैं लोग उनसे दूर जाने लगते हैं |

इंसान एक सोशल एनिमल ही तरह है उसे इस समाज की हर समय जरूरत पडती रहती हैं लोग यदि आपको नापसंद करने लगेंगे तो मुसीबत में कोई आपकी मदद भी नहीं करेगा | ऐसे में उस इंसान का स्ट्रेस लेवल भी बढ़ा हुआ रहता है उसके झगडे भी बढ़ जाते हैं वो अंदर ही अंदर परेशान रहता है |

इसीलिए आपको अपने अंदर ego नहीं पालना चाहिए | सफलता मिलने पर ही humble रहें, एकदम से हवा में उड़ने की कोई जरूरत नहीं हैं |

7.Feel The Energy Of Universe

जब हम किसी बोरिंग काम को करते-करते थक जाते हैं और कोई हमे पार्टी या घूमने के लिए बोलता है तो हमारे अंदर एकदम से एनर्जी आ जाती है इसका मतलब ये है की हमारे अंदर उर्जा का भण्डार होता है बस उसे इस्तेमाल करने की जरूरत होती है |

कुछ लोग 12-12 घंटे काम करने पर भी नहीं थकते हैं और कुछ खिलाड़ी घंटो तक प्रैक्टिस करने पर भी थकते नहीं है उनके अंदर उर्जा का भण्डार होता है | आपको भी अपने अंदर ऐसी उर्जा को महसूस करना है आपको आँखे बंद करके ये बोलना है की मै भी इस ब्रहमांड का हिस्सा हूँ और मेरे अंदर इस ब्रह्माण्ड की शक्ति है |

ऐसा करते हुए आपको अपने काम के साथ-साथ खुश रहना होगा | उस काम में आपको इंटरेस्ट लेना होगा | आपने काम को अध्यात्म से जोड़े | इन तरीको से आपके अंदर कभी एनर्जी खत्म नहीं होगी |

Also Read : Purple Cow Book Summary In Hindi

8.Relationships Detachment

हम इंसान रिश्तो के बंधन में बंधे हुए हैं किसी को अपने माँ-बाप से दूर जाने का गम सताता है तो किसी को अपने प्रेमी से दूर जाने का गम सताता है | इस तरह से रिश्तो से जयादा अटैचमेंट ठीक नहीं होता है बौद्ध धर्म के अनुसार ये अटैचमेंट निर्वाण प्राप्ति में सबसे बड़ी बाधा होती हैं |

जिस तरह से गौतम बुद्धा सारे संस्कारिक सुखो और मोहमाया को छोडकर ज्ञान की प्राप्ति में निकल पड़े थे तभी उन्हें निर्वाण की प्राप्ति हुई थी |

आपको ऐसा कुछ भी करने की जरूरत नहीं है आपको किसी के भी प्यार या मोह में अँधा नहीं होना है आपके दिल के करीबी आपसे थोड़ी देर के लिए दूर हो जाए तो बेवजह परेशान नहीं होना है |

9.Detach To Find Peace

लोग अब materialistic चीजो में खुशियां ढूंढ रहे हैं ऐसे में जब उन्हें ख़ुशी नहीं मिलती है तो वे दुखी हो जाते हैं ऐसे लोगो को कभी भी मानसिक शांति नहीं मिल पाती है यदि ऐसे लोगो को वो ख़ुशी मिल भी जाए तो उनका लालच कम नहीं होता है |

उन्हें हमेशा दूसरो से एक लेवल बढ़िया और महँगी चीजे चाहिए होती हैं और वे जल्दी से बोर हो भी जाते हैं ये चीजे ही आपके दुखो का कारण है ऐसी चीजो से मोहमाया को त्याग देना चाहिए |

जब कुछ लोगो के पैसे डूब जाते हैं या उन्हें घाटा हो जाता है तो वे गुस्से से पागल हो जाते हैं क्योकि उनका अपने पैसो से अटैचमेंट हुआ होता है ऐसा करने से उनकी लाइफ खत्म नहीं हो जाती हैं इन चीजो से उनको खुद को detach कर लेना चाहिए |

जो इंसान इन मोहमाया से परे होकर खुश रहे तो समझ लेना उसने मानसिक ख़ुशी को पा लिया है |

10.Surrender Vs Resign

जैसे कुछ लोग अपनी असफलताओं में ही डूबे रहते हैं वे उससे बाहर आने की कोशिश ही नहीं करते हैं ऐसे में कुछ तो अवसाद में चले जाते हैं और सिगरेट, शराब और बाकी के नशे करना शुरू कर देते हैं |

ये सभी चीजे एकदम व्यर्थ की हैं | गीता में लिखा है – क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ में डरते हो? तुम्हारा ऐसा क्या खो जाएगा? जो तुम लाये हो |

इसीलिए कभी भी हार मान लेने की ना सोचें | बल्कि अपनी गलतियों से सीखना है और फिर से कोशिश करना है | विश्वास और कोशिश करते रहने से ही आपको सक्सेस मिल सकती है |

I Hope आपको The Power Of Now की बुक समरी काफी अच्छी लगी होगी |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply