You are currently viewing Essay On Water Pollution In Hindi | जल प्रदूषण पर निबन्ध

Essay On Water Pollution In Hindi | जल प्रदूषण पर निबन्ध

आप सभी को पता होगा की आज के समय में जल प्रदूषण कितनी गम्भीर समस्या है लेकिन इससे निजात पाने में हर कोई कोशिश कर रहा है लेकिन सफल नही हो पा रहा है| water pollution in hindi ये अपने आप में बहुत बढ़ा टॉपिक है जिसके बारे में जितना बात करे उतना ही कम है |

आज के इस topic में हम जल प्रदूषण के बारे में बात करेंगे की इसको कम करने के क्या क्या उपाय हो सकते है और मानव जीवन पर इसके क्या प्रभाव पढ रहे है |

10 Lines Essay On Water Pollution In Hindi : जल प्रदूषण पर 10 लाइनों में निबन्ध

जल प्रदूषण क्या है? what is water pollution in hindi?

  1. हमारे द्वारा जब भी कोई दूषित पदार्थ किसी नदी, नाले, तालाब और समुद्र में डाला जाता है जिससे इनका पानी दूषित हो जाता है और हमारे द्वारा फैलाये गये इस प्रदूषण को जल प्रदूषण कहते है क्योकि एक मनुष्य के अलावा और कौन फैला सकता है प्रदूष्ण इस बारे में हमे पता होना चाहिए |
  2. आज से हजारो साल पहले तक जल प्रदूषण की कोई समस्या नही होती थी और न ही किसी तरह का प्रदूषण होता था लेकिन आज के समय में कई बढे बढे कारखाने बन चुके है जिनसे निकले वाली गंदगी से इस धरती का पानी दूषित हो चूका है |
  3. जल प्रदूषण का मुख्य कारण शहरो में होने वाली गंदगी से होता है और इस बात को कोई ताल नही सकता है क्योकि चाहे सीवर लाइन हो, कोई फैक्ट्री हो, कचरा हो ये साड़ी चीजे किसी न किसी वजह से पानी में मिल ही जाता है और न चाहते हुए भी शहरो के नाले सीधे जाकर नदियों में मिल जाते है |
  4. इससे बढ़ा कारण क्या हो सकता है जल प्रदूषण का, और ज्यादातर वायु प्रदूषण की वजह से बारिश में भी प्रदूषण की मात्रा आ जाती है |
  5. आज के समय में नदियों में होने वाला प्रदूषण बहुत बड़ी समस्या है अगर ये ऐसे ही रही तो पीने के पानी की समस्या और बढ़ जाएगी हमे अपने सीवर लाइन, नालियों के पानी को नदियों में जाने से रोकना चाहिए |
  6. जमा किया गया पानी जो हम इस्तेमाल करते है उससे भी प्रदूषण का ज्यादा खतरा रहता है जो पानी बहुत दिनों ताल जमा रहता है वो भी एक तरह से जल प्रदूषण ही है |
  7. समुद्र में होने वाला प्रदूषण भी एक तरह से जल प्रदूषण का ही हिस्सा है क्योकि नदियों से आने वाला पानी सीधे समुद्र में ही मिलता है जिसे समुद्र में रहने वाले जीवो को इसका नुक्सान होता है |
  8. इससे ज्यादा दुष्प्रभाव क्या हो सकता है हमारे जीवन में की हमे इसका खामियाजा भुगतना पढ रहा है इतनी साड़ी बीमारियों का कारण ही यही है की हमारे द्वारा फैलाये गये प्रदूषण से पृथ्वी का कोई भी हिस्सा साफ़ नही रहा है जहाँ जहाँ भी इंसान है वहां पर आपको प्रदुषण मिलेगा ही मिलेगा |
  9. आज आप देख रहे होंगे की इतनी बढ़ी बढ़ी गंभीर बिमारिय हो रही है दुनिया में महामारी फ़ैल रही है तो इसका कारण क्या है प्रदूषण ही तो है और प्रदूषण हिने का कारण हम लोग ही है और हमे ये स्वीकार करना चाहिए |
  10. हमारे जीवन में जल का इतना महत्व है की अगर जल ही नही होगा तो इस धरती पर जीवन कैसे होगा और आज के समय में जल प्रदूषण से मानव जीवन पर इसका इतना प्रभाव पढ़ा है की इस बात से कोई भी अनजान नही है |

जल प्रदूषण के नियन्त्रण के उपाय :

  1. सबसे पहले हमे अपने घर से ही शुरुआत करनी चाहिए हमे अपने घर में नियमित रूप से ही पानी इस्तेमाल करना चाहिए बेवजह पानी को दूषित नही करना है |
  2. अपने आस पास के नालियों को साफ़ सुथरा रखना है ऐसा नही की कोई भी कचरा हम नाली में डाल दे |
  3. कोशिश करनी होगी की बढ़ी बढ़ी कारखानों से निलकने वाले रासायनिक पदार्थो को नदियों में डालने से रोकना होगा इसकी जगह वे कुछ दूसरा तरीका अपना सकते है जिससे नदी का पानी प्रदूषित न हो |
  4. शहरो के नालो में हर एक पांच से दस किलोमीटर में कचरा रोकने का तरीका इस्तेमाल करना होगा जैसे विदेशो में एक किस्म की जाली का इस्तेमाल होता है उसी तरह का हमे भी करना होगा |
  5. जो भी लोग इस तरह का प्रदूषण करेंगे उन पर भरी भरकम जुर्माना लगाना होगा जिससे की वो ऐसी गलती न करे |
  6. जब कभी भी गांवो या शहरो में कोई जानवर मर जाता है तो उसे सीधे नदियों में फैकने से रोकना होगा नही तो इससे पानी जहरीला हो जाता है |
  7. अपने अपने इलाके में हमे मुहीम चलानी चाहिए की कोई भी प्रदूषण न करे जिससे लोगों में जागरूकता आएगी |
  8. नदियों के किनारे वाले शहरो को इस बात का ध्यान सबसे ज्यादा रखना है |
what is water pollution in hindi and water pollution essay in hindi

जल प्रदूषण पर निबन्ध | water pollution essay in hindi :

जल प्रदूषण की समस्या वास्तव में कोई नई समस्या नही है धरती पर जीवन का सबसे मुख्य स्रोत तजा पानी है लेकिन धरती पर जल प्रदूषण लगातार एक बढती समस्या बनती जा रही है |

जल जल प्रदूषण सभी के लिए के गम्भीर मुद्दा है जो कई तरीको से मानव, पशु, पंछी, जलीय जीव और भूमि को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है जल प्रदूषक जल की रासायनिक, भौतिक और जैविक विशेषता को बिगाड़ रहा है जो पूरे विश्व में सभी पेड़-पौधों, मानव और जानवरों के लिए खतरनाक है |

जल प्रदूषण के कारण :

जल प्रदूषण दो कारणों से होता है एक प्राकृतिक और दूसरा मानवीय |

प्राकृतिक : जिसमे मरे जीवो का जीवाश्म नदी, तलब और समुद्र में मिल जन, कार्बनिक पदार्थो का मिल जाने से जल प्रदूषण होता है |

मानवीय : इसमें जलीय स्रोतों के आस पास कारखाना लगाना जिसमे उससे निकलने वाला कचरा नदी, तालाब और समुद्र में मिल जाना, घर के कचरे को नदी या तालाब में फैकने से जल प्रदूषण होता है

और पढ़े : उल्कापिंड क्या होते है ?

Conclusion (निष्कर्ष) :

हमने अभी तक जल प्रदूषण के बारे में वो सारी चीजे सीख ली है जो हमे पता होनी चाहिए और हमे अपनी जिन्दगी में इन बातो का पालन करना चाहिए और दूसरो को भी इसकी शिक्षा देनी चाहिए |

अगर आपको मेरे द्वारा बताये गये जानकारी से कोई फायदा हुआ होगा तो इसके लिए मिझे बहुत अच्छा लगेगा और अगर आपको कोई प्रश्न पूछना है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते है |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply