Essay on unemployment problem in hindi | बेरोजगारी क्या है? और बेरोजगारी की समस्या पर निबन्ध.

दोस्तों आज के इस टॉपिक में हम बात करेंगे बेरोजगारी क्या है क्योकि ये समस्या इतनी बढ़ी हो गयी है की इससे उबरने में अभी के समय हमारा देश के युवा काफी मुश्किलों से गुजर रहे है |

Essay on unemployment problem in hindi : बेरोजगारी की समस्या पर निबन्ध

भारत में बेरोजगारी के आंकड़े को जारी करने वाली संस्था राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन के अनुसार जिसमे काम के अभाव में लोग बिना कार्य के वंचित रह जाते है इस समस्या को बेरोजगारी कहते है |

एक सर्वे में अंतराष्ट्रीय श्रम संगठन के अनुसार भारत में वर्ष 2018 से 2020 में लगभग 18 से 20 मिलियन लोग बेरोजगार हो गये है और आज की स्थिति में ये आंकड़े और भी ज्यादा बढ़ गये है |

भारत में कौन कौन लोग बेरोजगार हैं?

पहले के समय जिस भारत को सोने की चिड़िया कहा करते थे वहां बेरोजगारी इस चरम सीमा तक पहुच गयी है की जिससे उभरना मुश्किल होता जा रहा है |

भारत में बेरोजगारी के ऐसे अनेको रूप हैं लेकिन इनमे से मुख्य दो रूप ऐसे है जिन्हें हम अच्छे से समझ सकते है :

पहले वर्ग में ऐसे लोग जो अशिक्षित हैं, गरीब है और रोजी रोटी के लिए इधर उधर भटक रहे है न ही उन्हें काम मिल पाता है |

और दूसरा वर्ग वो है जो शिक्षित है उनके पास डिग्री है, उनके पास ज्ञान तो है लेकिन नौकरी नही है कुछ ऐसे है जिनको उनकी काबिलियत के हिसाब से नौकरी नही मिलती है और वो अपनी नौकरी से खुश नही है |

ऐसे लोगो को मजबूरी में बहुत कम पैसो में काम करना पड़ता है जिससे उनकी आजीविका नही चल पाती है |

what is unemployment and essay on unemployment problem in india
image source : www.flickr.com

10 Lines Essay on unemployment problem in hindi :

  1. बेरोजगारी भारत में एक ऐसी समस्या हो गयी है की अगर कोई पढ़ा लिखा व्यक्ति काम करने के लिए जाए तो उसे उसकी योग्यता के हिसाब से काम नही मिलता है और उसे काम का अवसर ना मिले तो तो बेरोजगारी की श्रेणी में आ जाता है |
  2. आज हमारे देश में लाखो से उपर लोग बेरोजगार है ऐसा इसीलिए हुआ है क्योकि जॉब बहुत ही सिमित रह गयी है और उसे पाने के अवसर भी बहुत कम हो गये है |
  3. 2011 की जनगणना के अनुसार युवाओं का 20% जिसमे 25 से 30 वर्ष की आयु के युवा है वो पूरी तरह बेरोजगार है |
  4. आप लोगो ने देखा होगा की किसी एक सरकारी नौकरी के आवेदन के लिए लाखो आवेदकों की संख्या हो जाती है जहाँ पर उनके नौकरी के अवसर कम हो जाते है |
  5. हमारे देश में बेरोजगारी के अनेको ऐसे कारण है जिनमे अभी तक सुधार नही हुआ है चाहे वो हमारी पुरानी शिक्षा निति जो अभी तक नही सुधरी है, चाहे जनसँख्या की वृद्धि, बढे बढे उद्द्योगो की स्थापना के कारण घरेलू उद्योगों में कमी ये ऐसे मुख्य कारण हैं |
  6. बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए हमे आम जनता के मनोभावना को बदलना होगा जिससे उन्हें ये बताना होगा की कैसे आप एक दुसरे पर निर्भर ना रहकर खुद पर निर्भर रह कर कुछ कर सकते है |
  7. सरकार को ऐसे शिक्षा निति पर ध्यान देना होगा जो रोजगार के अवसर पैदा करे और पुराने नीतियों को बदलना होगा या फिर परिवर्तन लाना होगा |
  8. पुराने घरेलू उद्योग धंधो को फिर से शुरू करने पर ध्यान देना होगा और नये कारोबार को वित्तीय सहायता उपलब्ध करानी होगी
  9. बेरोजगारी को दूर करने के लिए सरकार द्वारा अनेको योजनाये निकाली गयी है जिनमे राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम, ग्रामीण भूमिहीन रोजगार गारंटी कार्यक्रम, जवाहर रोजगार योजना, प्रधानमंत्री रोजगार योजना आदि कार्यक्रम शामिल है
  10. लेकिन अप्पने देखा होगा की इतना करने के बावजूद भी बेरोजगारी में कोई सुधार नही हुआ है इसके लिए और बढे कदम उठाने होंगे |
  11. आज के समय में जैसे नये नये स्टार्टअप की और काम चल रहा है एयर युवा भी इस काम हो लेकर उत्साहित है सरकार को इसमें युवाओ को आर्थिक मदद देनी चाहिए |
  12. बेरोजगारी को कम करने के लिए हमे नये विकल्प तलाशने होंगे जहाँ हम रोजगार के अवसर पैदा कर सके और लोगो को आत्मनिर्भरता की ओर ले जा सके |

महामारी के कारण भारत में बेरोजगारी की समस्या :

महामारी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को एकदम चरमरा कर रख दिया है और एक बढे स्तर पर लोगो की नौकरिया जा चुकी है और ये ग्राफ आज तक का सबसे बढ़ा ग्राफ है |

भारत में किये गये एक सर्वेक्षण में शहरी इलाके में लगभग 85 प्रतिशत लोगो ने अपने रोजगार खो दिए है अब मै अपनी बात कहू तो सरकार इस तरफ ज्यादा ध्यान नही दे रही है |

वैसे तो काफी हद तक सरकार कोशिश करती है स्वरोजगार उत्पन्न करने की और इस बारे में बात भी करती है लेकिन ये काम जमीनी स्तर पर नही होता है |

मेरी खुद की समझ के अनुसार आज के दौर में बढती नई तकनीकी के कारण अनेको कार्यो में लोगो की जरूरत के काम कम हो गये है पहले के समय में जहाँ एक काम में पचास लोग काम करते थे वही आज के समय में उसी काम को एक मशीन थोड़े समय में पूरा कर लेती है इससे समय और पैसो की बचत होती है |

लोगो को अब किसी ऑफिस में काम में लाइन में नही लगना होता है वो सारे काम ऑनलाइन हो गये गये जो काम इंसान करते थे वो काम अब ऑनलाइन तकनिकी तरीके से हो रहे है लोगो के काम की जरूरत कम हो रही है |

ये मुद्दा भी बेरोजगारी का बहुत बढ़ा कारण है लेकिन इसका मतलब ये नही की हम इन तकनीको का इस्तेमाल करना छोड़ दे और आने वाले भविष्य के साथ न चले, इससे तो हम पूरी दुनिया में पिछड़ जाएँगे |

Conclusion (निष्कर्ष) :

मैंने इस टॉपिक के सहारे आपके सामने अपनी राय रखने की कोशिश की है जिसमे शायद मेरे द्वारा बताई गयी बात अधूरी हो लेकिन इसमें कोई भी बात गलत नही हो सकती है |

आपको लय लगता है की इसका निष्कर्ष क्या हो सकता है आपके अनुसार आप इस बात तो निचे दिए गये कमेंट बॉक्स में लिखकर बता सकते है |

Vikram mehra

मेरा नाम विक्रम मेहरा है मै उत्तराखंड का रहने वाला हु मैंने B.sc (PCM) से की हुई है और मुझे टेक्नोलॉजी, साइंस और लोगो को अपने ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा देना बहुत पसंद है मेरा मकसद ऑनलाइन माध्यम से लोगो तक इनफार्मेशन पहुचाना है और साथ ही मुझे मूवीज देखना, घूमना बहुत पसंद है |

Leave a Reply